Vaastu Shastra

Vaastu Shastra and Numerology are interrelated with each other with respect to the directions. Every direction in Vaastu is governed by a particular planet. Each planet has its number and color also. Each direction has its own significance and utilization as per Vaastu Shastra.

While entering into any place, may be house, shop, factory, prayer place, we are affected with the electromagnetic radiations (energy) of that place. This energy directly affects our soul, mind and body. If the energy is positive, we feel peaceful, relaxed and our breathing process is normal. If the energy of that place is negative, then immediately our breathing process will be abnormal. We feel uneasy and ultimately take wrong decisions which leads to loss of wealth, health & happiness.

To avoid all these negative aspects from our life, it becomes very important to follow Vaastu principles. When we buy a plot, land to construct the house, factory, office, bungalow, building etc. Vaastu plays an important role that can increase the chance of enjoyment, peaceful and happy life.

वास्तु शास्त्र

अपना जीवन बदलो

दिशाओं के संबंध में वास्तु शास्त्र और न्यूमरोलॉजी एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं। वास्तु में हर दिशा एक विशेष ग्रह द्वारा शासित होती है। प्रत्येक ग्रह की अपनी संख्या और रंग भी होता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार प्रत्येक दिशा का अपना महत्व और उपयोग है।

किसी भी स्थान में प्रवेश करते समय, घर, दुकान, कारखाना, प्रार्थना स्थल हो सकता है, हम उस स्थान के विद्युत चुम्बकीय विकिरणों (ऊर्जा) से प्रभावित होते हैं। यह ऊर्जा हमारी आत्मा, मन और शरीर को सीधे प्रभावित करती है। यदि ऊर्जा सकारात्मक है, तो हम शांतिपूर्ण, आराम महसूस करते हैं और हमारी सांस लेने की प्रक्रिया सामान्य है। अगर उस जगह की ऊर्जा नकारात्मक है, तो तुरंत हमारी सांस लेने की प्रक्रिया असामान्य हो जाएगी। हम असहज महसूस करते हैं और अंततः गलत निर्णय लेते हैं जिससे धन, स्वास्थ्य और खुशी की हानि होती है।

हमारे जीवन से इन सभी नकारात्मक पहलुओं से बचने के लिए, वास्तु सिद्धांतों का पालन करना बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है। जब हम घर, कारखाना, कार्यालय, बंगला, भवन आदि के निर्माण के लिए एक भूखंड खरीदते हैं, तो वास्तु एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है जो आनंद, शांतिपूर्ण और सुखी जीवन की संभावना को बढ़ा सकता है।